ₛₐₚₙₐ ₕₐᵢ ₐₐₙₖₕₒₙ ₘₑᵢₙ Sad DIL ki bate



ₛₐₚₙₐ ₕₐᵢ ₐₐₙₖₕₒₙ ₘₑᵢₙ

ₘₐgₐᵣ ₙₑₑₙd ₙₐₕᵢₙ ₕₐᵢ,

 Dᵢₗ ₜₒ ₕₐᵢ ⱼᵢₛₘ ₘₑᵢₙ ₘₐgₐᵣ

Dₕₐdₖₐₙ ₙₐₕᵢₙ ₕₐᵢ,

 ₖₐᵢₛₑ Bₐyₐₐₙ ₖₐᵣₑₙ

 ₕₐₘ ₐₚₙₐ ₕₐₐₗ₋ₑ₋Dᵢₗ,

 ⱼₑₑ ₜₒ ᵣₐₕₑₙ ₕₐᵢₙ 

ₘₐgₐᵣ Yₑ Zᵢₙdₐgᵢ 

ₙₐₕᵢₙ ₕₐᵢ. 

सपना है आँखों में

 मगर नींद नहीं है, 

दिल तो है जिस्म में 

मगर धड़कन नहीं है, 

कैसे बयाँ करें हम 

अपना हाल₋ए₋दिल, 

जी तो रहें हैं 

मग ये ज़िंदगी नहीं है।

No comments:

Thank you

Powered by Blogger.